इस बच्ची की हैण्ड राइटिंग देखकर आपके भी होश उड़ जायेंगे!

हैंड राइटिंग
अक्सर स्कूल में उन बच्चो के लिए कही जाती थी जिनकी हैंड राइटिंग पढ़ने लायक नहीं होती थी और इसी वजह से उन्ही बच्चो को हमेशा डांट पड़ती रहती थी

“आप लिखो और खुदा बाचे” वाली कहावत तो आप सभी ने सुनी ही होगी, ये अक्सर स्कूल में उन बच्चो के लिए कही जाती थी जिनकी हैंड राइटिंग पढ़ने लायक नहीं होती थी। इसी वजह से उन्ही बच्चो को हमेशा डांट पड़ती रहती थी और कई बच्चो की हैंड राइटिंग उनके अच्छे मार्क्स लाने में मदद करती थी।

 आप देखिये इस खूबसूरत राइटिंग को

हैंड राइटिंग के महत्व से हम सभी भली-भांति परिचित है, कई लोगो का मानना है कि सुन्दर लिखावट अच्छे चरित्र की निशानी होती है, जो कि सही नहीं है। लिखावट की सुंदरता निरंतर प्रयास से बढ़ायी जा सकती और ये संभव भी है इसका एक उदहारण है नेपाल में रहने वाली प्रकृति मल्ला है। उनकी हैंड राइटिंग को देखकर यह कह पाना मुश्किल है कि ऐसी लिखावट हाथो से संभव नहीं है, ऐसा लगता है मानो इसे कंप्यूटर से लिखा गया हो।

 आप खुद ही देखकर अंदाजा लगा लीजिये

प्रकृति की हैंड राइटिंग देखकर पूरी दुनिया उसके हुनर की कायल हो गयी है

पूरी दुनिया में इंटरनेट की मदद से आप अपने हुनर को एक नई पहचान दे सकते है जैसे प्रकृति ने अपनी कला के प्रदर्शन से सबका मन मोह लिया है।

प्रकृति के स्कूल की तस्वीर

शानदार लिखावट की वजह से जानी जाने वाली प्रकृति इस स्कूल में पढ़ती है, जो की नेपाल का सैनिक आवासीय महाविद्यालय है।

आपके हुनर की सराहना करती है दुनिया

इस बच्ची की लिखावट को नेपाल सरकार द्वारा प्रस्तुत किया जा चुका है और प्रकृति को इस क्षेत्र में मिल चुके है कई अवॉर्ड्स।

देश के बहार भी अपनी कला का परचम फहराया है प्रकृति ने

प्रकृति की इस अनोखी लिखावट को देश ही नहीं बल्कि देश के बहार भी काफी सराहना मिली है और इंटरनेट के माध्यम से प्रकृति का नाम बच्चों के मिसाल बन चूका है।

प्रैक्टिस से की है अपनी हैंड राइटिंग की सुंदरता में बढ़ोतरी

रोजाना २ घंटे के लगातार प्रयास से मिली है ऐसी अदभुत कला।

सेना ने भी किया सम्मान

नेपाल सरकार ही नहीं बल्कि वहां की सेना ने भी किया प्रकृति को पुरस्कृत।